amla

जिस तीव्रता से दुनिया भर में कोरोनावायरस के मामलों की संख्या बढ़ रही है, संक्रमण के जोखिम को कम करने के लिए एहतियाती उपाय करना आवश्यक हो गया है। यही कारण है कि हमें एक स्वस्थ और मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली की आवश्यकता है। हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली रक्षा की पहली पंक्ति है, जो रोग पैदा करने वाले रोगजनकों को हमसे दूर रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है, जिससे बीमार होने की संभावना कम हो जाती है। आपके प्रतिरक्षा स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के विभिन्न तरीके हैं और उनमें से एक प्रमुख आयुर्वेद है। आयुर्वेदिक चिकित्सा तैयार करने के लिए कई जड़ी बूटियों का उपयोग उम्र के लिए किया गया है जो आपके प्रतिरक्षा स्वास्थ्य को बढ़ावा देने में मदद कर सकते हैं। इस वीडियो में, आयुर्वेदिक कोच, डिंपल जांगडा कुछ आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों की चर्चा करते हैं जो आपके प्रतिरक्षा स्वास्थ्य के लिए अच्छे हैं। वह साझा करती हैं, “जैसा कि वायरस हमारे गले और छाती को प्रभावित करता है, हमें संक्रमण के जोखिम को कम करने के लिए अपने ब्रोन्कियल स्वास्थ्य या कपाश दोष को बढ़ावा देना चाहिए।” यहां कुछ जड़ी-बूटियां दी गई हैं जिन्हें आप अपनी प्रतिरक्षा को बढ़ाने का प्रयास कर सकते हैं।

प्रतिरक्षण(Immunity) बूस्टर 1

सामग्री: 5 ग्राम नीम के पत्ते

यह कैसे करना है: मोर्टार और मूसल(Pestle) का उपयोग करके एक महीन पेस्ट बनाये और 5 ग्राम नीम के पत्ते लें और इसे पीस लें। इसे अपने गले के पीछे लगाएं और निगल लें। इसे खाली पेट लें और 1 घंटे तक कुछ भी न खाएं-पिएं।

लाभ: नीम एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटी-बैक्टीरियल, एंटी-वायरल, एंटी-फंगल है और एक मजबूत शुक्राणुनाशक एजेंट है। नीम को 15 दिनों से अधिक न लें। इसके अलावा, गर्भवती महिलाओं, बच्चों और वरिष्ठ नागरिकों को नीम से बचना चाहिए |

प्रतिरक्षण(Immunity) बूस्टर 2

सामग्री: 5 ग्राम Phyllanthus Niruri जो भूमि अम्ब्ला के नाम से भी जाना जाता है |

यह कैसे करना है: 5 ग्राम Phyllanthus Niruri के पत्ते लें और इसे पीसकर मोर्टार और मूसल का उपयोग करके एक महीन पेस्ट बनाएं। इसे सुबह खाली पेट निगल लें।

लाभ: Phyllanthus Niruri के पत्ते गुर्दे और पित्ताशय की पथरी को भंग करने में मदद करते हैं। यह आपके यकृत को मजबूत करता है, प्रतिरक्षा को बढ़ाता है और हेपेटाइटिस बी से लड़ने में मदद करता है। आप कैप्सूल के रूप में फेलैंथस निरूरी भी ले सकते हैं।

प्रतिरक्षण(Immunity) बूस्टर 3

सामग्री: 1/2 इंच ताज़ी छिली हुई अदरक |

यह कैसे करें: अपने भोजन से पहले 1/2 इंच ताजा छिलके वाली अदरक लें।

लाभ: अदरक में विरोधी भड़काऊ और एंटीऑक्सिडेंट गुण होते हैं। जड़ी बूटी आपके चयापचय को उत्तेजित करती है और आपकी प्रतिरक्षा को बढ़ाने में मदद करती है।

प्रतिरक्षण(Immunity) बूस्टर 4

सामग्री: 1 आंवला |

यह कैसे करना है: खाली पेट हर दिन एक आंवला लें

लाभ: आंवला विटामिन सी, बीटा-कैरोटीन के लाभों से भरा हुआ है और एंटीऑक्सिडेंट का एक समृद्ध स्रोत है, जो प्रतिरक्षा को बढ़ावा देने में मदद करता है। 1 आंवला 20 सिट्रिक फलों के बराबर होता है।

प्रतिरक्षण(Immunity) बूस्टर 5

सामग्री: गिलोय और ब्राह्मी |

यह कैसे करें: आपके पास गिलोय और ब्राह्मी का रस हो सकता है, जो बाजार में आसानी से उपलब्ध हैं। आप उन्हें कैप्सूल के रूप में भी ले सकते हैं।
लाभ: अपनी प्रतिरक्षा, स्मृति शक्ति, शक्ति और बुद्धि को बढ़ावा देने के लिए इन जड़ी बूटियों को अपने दैनिक शासन में शामिल करें।
याद रखें कि ये जड़ी-बूटियाँ शरीर में गर्मी पैदा करती हैं और प्रभाव को कम करने के लिए छाछ के बाद दोपहर का भोजन पीती हैं।